Friday, June 18, 2021
Follow us on
India

भारत में कोविड-19 के एक दिन में 3,57,229 नए मामले

May 04, 2021 02:43 PM

नयी दिल्ली, चार मई- भारत में एक दिन में कोविड-19 के 3,57,229 मामले आने के साथ ही संक्रमण के कुल मामले दो करोड़ का आंकड़ा पार कर गए हैं जबकि 3,449 और लोगों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या 2,22,408 पर पहुंच गई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मंगलवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में कोविड-19 के मामलों की संख्या 2,02,82,833 हो गई है।

सुबह आठ बजे तक उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 34,47,133 हो गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 17 प्रतिशत है। कोविड-19 से स्वस्थ होने वाले लोगों की दर 81.91 प्रतिशत है।

आंकड़ों के मुताबिक, इस बीमारी से उबरने वाले मरीजों की संख्या 1,66,13,292 पर पहुंच गई है जबकि मृत्यु दर 1.10 प्रतिशत है।

भारत में कोविड-19 के मामले सात अगस्त को 20 लाख का आंकड़ा पार कर गए थे। इसके बाद संक्रमण के मामले 23 अगस्त को 30 लाख, पांच सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख के पार चले गए थे।

वैश्विक महामारी के मामले 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवंबर को 90 लाख और 19 दिसंबर को एक करोड़ का आंकड़ा पार कर गए थे। भारत में महामारी के मामले 19 अप्रैल को 1.50 करोड़ के पार चले गए थे।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के मुताबिक, तीन मई तक 29,33,10,779 नमूनों की जांच की गई जिनमें से 16,63,742 नमूनों की जांच सोमवार को की गई।

Have something to say? Post your comment
More India News
भारत में कोरोना का बढ़ता संकट : पंजाब केरल समेत कई प्रदेशों में लगे कड़े प्रतिबंध
ऑक्सीजन संकट : गंगाराम अस्पताल में 25 मरीजों की मौत, केजरीवाल ने मदद के लिए लगाई गुहार
भारत में एक दिन में कोविड-19 के 3.14 लाख से ज्यादा मरीज, किसी देश में अब तक दर्ज सर्वाधिक संख्या
भारत में कोविड-19 से 2,023 लोगों की मौत, संक्रमण के 2,95,041 नए मामले
महाराष्ट्र में लगेगा संपूर्ण लॉकडाउन! मंत्रीमंडल ने सीएम ठाकरे से की लगाने की गुजारिश
दिल्ली के कुछ अस्पतालों में कुछ घंटों के लिए ही ऑक्सीजन बची है : केजरीवाल
कृषि क़ानूनों में संशोधन को तैयार होकर केंद्र ने माना कि उसमें कमियां थीं: भारतीय किसान यूनियन.
सुप्रीम कोर्ट ने कहा- किसानों को अहिंसक प्रदर्शन का अधिकार, केंद्र को कानून लागू न करने का सुझाव.
किसान नेताओं ने कृषि कानूनों को रद्द करने पर जोर दिया, वार्ता का छठा दौर निरस्त.
किसान आंदोलन को बदनाम करने का प्रयास भाजपा का आज़माया हुआ तरीका है.