Saturday, January 16, 2021
Follow us on
BREAKING NEWS
ट्रूडो का कहना है कि 14 दिन के संगरोध के लिए छुट्टियां मनाने वाले कैनेडा सिकनेस लाभ का दावा नहीं कर पाएंगे।ओंटारियो में लगातार दूसरे दिन 3,000 से अधिक COVID-19 मामलों की रिपोर्ट।कृषि क़ानूनों में संशोधन को तैयार होकर केंद्र ने माना कि उसमें कमियां थीं: भारतीय किसान यूनियन.हत्याकांड की जांच: मार्खम घर में विस्फोट से 2 बच्चों की मौत.ओंटारियो में 2,200 से अधिक नए COVID -19 मामलों में 21 मौतें हुईं।नए COVID-19 वेरिएंट उभरने के साथ फोर्ड ने हवाई अड्डों पर COVID-19 परीक्षण बढ़ाया।ओंटारियो में लॉकडाउन बॉक्सिंग डे से शुरू होगा, प्रीमियर डग फोर्ड ने घोषणा की है।C0VID-19 मॉडर्न वैक्सीन को अब फ्रीज की जरूरत नहीं है, जो शिपिंग की आसान सुविधा बनाती है।
India

अगर किसानों की मांगें दो दिन में नहीं पूरी की गईं तो हड़ताल पर जाएंगे: टैक्सी यूनियन

December 02, 2020 11:31 AM

ऑल इंडिया टैक्सी यूनियन ने सोमवार को चेतावनी दी कि अगर नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों की मांगें नहीं मानी गईं तो वे हड़ताल पर जाएंगे. यूनियन के अध्यक्ष ने इसकी जानकारी दी.

यूनियन के अध्यक्ष बलवंत सिंह भुल्लर ने कहा कि वे किसानों की मांगों को पूरा करने के लिए उन्हें दो दिन का समय दे रहे हैं.

भुल्लर ने कहा, ‘हम प्रधानमंत्री और कृषि मंत्री से अपील करते हैं कि वे इन कानूनों को वापस लें. कॉरपोरेट सेक्टर हमें बर्बाद कर रहा है. अगर दो दिनों के भीतर सरकार इन कानूनों को वापस नहीं लेती है तो हम सड़क से अपने वाहनों को हटा लेंगे. हम देश के सभी चालकों से अपील करते हैं कि वे तीन दिसंबर से वाहन चलाना बंद कर दें.’

बता दें कि नए कृषि कानून के खिलाफ पिछले छह दिनों से दिल्ली की सीमाओं पर हजारों की संख्या में किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. किसानों का कहना है कि वे निर्णायक लड़ाई के लिए दिल्ली आए हैं और जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं हो जातीं, तब तक उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा.

इस बीच सोमवार देर रात कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों से बातचीत करने की बात कही. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘नए कृषि कानूनों के प्रति भ्रम को दूर करने के लिए मैं सभी किसान संगठनों के प्रतिनिधियों एवं किसान भाइयों को चर्चा के लिए आमंत्रित करता हूं.’

मालूम हो कि केंद्र सरकार की ओर से कृषि से संबंधित तीन विधेयक– किसान उपज व्‍यापार एवं वाणिज्‍य (संवर्धन एवं सुविधा) विधेयक, 2020, किसान (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) मूल्‍य आश्‍वासन अनुबंध एवं कृषि सेवाएं विधेयक, 2020 और आवश्‍यक वस्‍तु (संशोधन) विधेयक, 2020 को बीते 27 सितंबर को राष्ट्रपति ने मंजूरी दे दी थी, जिसके विरोध में किसान प्रदर्शन कर रहे हैं.

किसानों को इस बात का भय है कि सरकार इन अध्यादेशों के जरिये न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) दिलाने की स्थापित व्यवस्था को खत्म कर रही है और यदि इसे लागू किया जाता है तो किसानों को व्यापारियों के रहम पर जीना पड़ेगा.

दूसरी ओर केंद्र में भाजपा की अगुवाई वाली मोदी सरकार ने बार-बार इससे इनकार किया है. सरकार इन अध्यादेशों को ‘ऐतिहासिक कृषि सुधार’ का नाम दे रही है. उसका कहना है कि वे कृषि उपजों की बिक्री के लिए एक वैकल्पिक व्यवस्था बना रहे हैं. 

Have something to say? Post your comment
More India News
कृषि क़ानूनों में संशोधन को तैयार होकर केंद्र ने माना कि उसमें कमियां थीं: भारतीय किसान यूनियन.
सुप्रीम कोर्ट ने कहा- किसानों को अहिंसक प्रदर्शन का अधिकार, केंद्र को कानून लागू न करने का सुझाव.
किसान नेताओं ने कृषि कानूनों को रद्द करने पर जोर दिया, वार्ता का छठा दौर निरस्त.
किसान आंदोलन को बदनाम करने का प्रयास भाजपा का आज़माया हुआ तरीका है.
आठ दिसंबर को भारत बंद, किसानों के साथ सरकार की बातचीत बेनतीजा.
किसानों ने ठुकराई सरकार की खातिरदारी, अपने साथ लाया हुआ खाना जमीन पर बैठकर खाया।
आठ दिसंबर से दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और राजस्थान सहित पूरे उत्तर भारत में आपूर्ति रोक देंगे, ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट ने कहा.
केंद्र और किसानों के बीच बेनतीजा रही बैठक, परसों फिर होगी बातचीत, आंदोलन जारी रहेगा
किसानों का प्रदर्शन पांचवें दिन भी जारी, कहा- मांगें पूरी होने तक होता रहेगा विरोध.
कृषि कानून पर फिर भड़के किसान:अंबाला में प्रदर्शन, पुलिस से भिड़े किसान; हरियाणा-पंजाब बॉर्डर सील, दोनों तरफ से आवाजाही पर रोक.