Saturday, January 16, 2021
Follow us on
BREAKING NEWS
ट्रूडो का कहना है कि 14 दिन के संगरोध के लिए छुट्टियां मनाने वाले कैनेडा सिकनेस लाभ का दावा नहीं कर पाएंगे।ओंटारियो में लगातार दूसरे दिन 3,000 से अधिक COVID-19 मामलों की रिपोर्ट।कृषि क़ानूनों में संशोधन को तैयार होकर केंद्र ने माना कि उसमें कमियां थीं: भारतीय किसान यूनियन.हत्याकांड की जांच: मार्खम घर में विस्फोट से 2 बच्चों की मौत.ओंटारियो में 2,200 से अधिक नए COVID -19 मामलों में 21 मौतें हुईं।नए COVID-19 वेरिएंट उभरने के साथ फोर्ड ने हवाई अड्डों पर COVID-19 परीक्षण बढ़ाया।ओंटारियो में लॉकडाउन बॉक्सिंग डे से शुरू होगा, प्रीमियर डग फोर्ड ने घोषणा की है।C0VID-19 मॉडर्न वैक्सीन को अब फ्रीज की जरूरत नहीं है, जो शिपिंग की आसान सुविधा बनाती है।
India

कृषि कानून पर फिर भड़के किसान:अंबाला में प्रदर्शन, पुलिस से भिड़े किसान; हरियाणा-पंजाब बॉर्डर सील, दोनों तरफ से आवाजाही पर रोक.

November 25, 2020 12:35 PM

केंद्र सरकार के नए कृषि बिल पर पंजाब-हरियाणा में किसानों का गुस्सा फिर भड़क उठा है। बुधवार को राजधानी दिल्ली में केंद्र सरकार का घेराव करने जा रहे किसानों को अंबाला में चंडीगढ़-दि‍ल्ली हाईवे पर पुलिस ने रोक दिया। इससे आक्रोशित किसान पुलिस से भिड़ गए। प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए पुलिस ने वॉटर कैनन का सहारा लिया। किसानों ने 26 नवंबर को दिल्ली में प्रदर्शन करने का ऐलान किया है।

प्रदर्शन को देखते हुए हरियाणा सरकार ने हरियाणा-पंजाब बॉर्डर सील कर दिया है। हरियाणा जाने वाली सभी रोडवेज बसों पर रोक लगा दी है। राज्य सरकार ने कहा कि जब तक ये आंदोलन जारी रहेगा तब तक रोडवेज की कोई बस पंजाब नहीं जाएगी। पंजाब से हरियाणा आने पर भी रोक लगा दी गई है।

हाईवे पर 15 किलोमीटर का जाम लगा

प्रदर्शनकारियों ने कई जगहों पर रेलवे ट्रैक भी बाधित कर दिया है। इससे चलते एक ट्रेन कैंसिल और 7 ट्रेनों को कुछ समय के लिए रोका गया है। 4 ट्रेनों को डायवर्ट कर दिया गया। किसानों के प्रदर्शन के चलते चंड़ीगढ़-दि‍ल्ली हाईवे पर 15 किलोमीटर लंबा जाम लग गया है। करीब 8 घंटे से हाईवे पर लोग परेशान हैं। पुलिस लगातार किसानों को हटाने की कोशिश कर रही है।

हरियाणा सरकार ने लगाई पाबंदियां

  • चंडीगढ़-दि‍ल्ली हाईवे पर बैरिकेड लगाकर किसी भी तरह के मूवमेंट पर रोक लगा दी गई है।
  • अंबाला में मोहड़ा मंडी के पास रैपिड एक्शन फोर्स की टीम तैनात की गई है।
  • पुलिस ने सभी जिलों में नाकेबंदी कर दी है। हरियाणा से पंजाब जाने वाले मुख्य रास्ते बंद कर दिए गए हैं।
  • जींद में दाता सिंह वाला बॉर्डर और अम्बाला में देवीनगर और सद्दोपुर बॉर्डर सील किए हैं।
  • झज्जर-रेवाड़ी समेत कई जिलों में धारा 144 लगा दी है। सोनीपत में कुंडली बॉर्डर पर नाकेबंदी कड़ी कर दी है।
  • रेपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की 5 कंपनियां तैनात की गई हैं। इन्हें सिरसा, अम्बाला, जींद में पंजाब बॉर्डर और सोनीपत में दिल्ली बॉर्डर पर तैनात किया गया है।
  • पुलिस की 14 अतिरिक्त कंपनियां भी अलग-अलग जगहों पर तैनात की गई हैं।   

मुख्यमंत्री ने किसानों से कहा- वापस लें अपील
मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने किसानों से दिल्ली कूच करने का ऐलान वापस लेने की अपील की है। उन्होंने कहा कि इससे आम लोगों को परेशानी होगी। कृषि बिल किसानों के हित में है और इससे उन्हें लाभ ही मिलेगा।

4 नेशनल हाईवे पर किसानों का फोकस
किसान संगठनों के पूरा फोकस हरियाणा से दिल्ली जाने वाले 4 मेन नेशनल हाईवे पर है। इनमें अम्बाला-दिल्ली, हिसार-दिल्ली, रेवाड़ी-दिल्ली, पलवल-दिल्ली हाईवे हैं। अम्बाला के शंभू बॉर्डर, भिवानी के गांव मुढ़ाल चौक, करनाल में घरौंडा मंडी, बहादुरगढ़ में टिकरी बॉर्डर व सोनीपत में एजुकेशन सिटी राई में भी किसानों के एकत्रित होने की संभावना है। पुलिस पंचकूला, अम्बाला, कैथल, जींद, फतेहाबाद व सिरसा में पंजाब से हरियाणा में प्रवेश करने वाले बॉर्डर पॉइंट्स पर ट्रैफिक डायवर्ट कर सकती है।

Have something to say? Post your comment
More India News
कृषि क़ानूनों में संशोधन को तैयार होकर केंद्र ने माना कि उसमें कमियां थीं: भारतीय किसान यूनियन.
सुप्रीम कोर्ट ने कहा- किसानों को अहिंसक प्रदर्शन का अधिकार, केंद्र को कानून लागू न करने का सुझाव.
किसान नेताओं ने कृषि कानूनों को रद्द करने पर जोर दिया, वार्ता का छठा दौर निरस्त.
किसान आंदोलन को बदनाम करने का प्रयास भाजपा का आज़माया हुआ तरीका है.
आठ दिसंबर को भारत बंद, किसानों के साथ सरकार की बातचीत बेनतीजा.
किसानों ने ठुकराई सरकार की खातिरदारी, अपने साथ लाया हुआ खाना जमीन पर बैठकर खाया।
आठ दिसंबर से दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और राजस्थान सहित पूरे उत्तर भारत में आपूर्ति रोक देंगे, ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट ने कहा.
अगर किसानों की मांगें दो दिन में नहीं पूरी की गईं तो हड़ताल पर जाएंगे: टैक्सी यूनियन
केंद्र और किसानों के बीच बेनतीजा रही बैठक, परसों फिर होगी बातचीत, आंदोलन जारी रहेगा
किसानों का प्रदर्शन पांचवें दिन भी जारी, कहा- मांगें पूरी होने तक होता रहेगा विरोध.